Saturday, October 16, 2021

केंद्र सरकार ने छोटी बचत पर की इतनी बड़ी कटौती कि चंद घंटो में फैसला लेना पड़ा वापिस

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने कल यानी 31 मार्च को छोटी बचत पर बड़ी कैंची चलाकर आम नागरिकों को झटका दिया था. छोटी बचत योजनाएं और पीपीएफ जैसी स्कीम की ब्याज दरों में भारी कटौती की थी. आज सरकार ने इस फैसले को वापस ले लिया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह फैसला गलती से जारी हो गया था। सरकार की इस गलती से नौ छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में 1.10% तक की कटौती हो गई थी. जो एक अप्रैल से लागू होने वाली थी और 30 जून 2021 तक प्रभावी रहती.

- Advertisement -

कल सरकार ने जिन योजनाओं की ब्याज दरें कम की थी उनमें PPF, सुकन्या समृद्धि योजना, किसान विकास पत्र, सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, मंथली इनकम स्कीम, टाइम डिपॉजिट, लेकरिंग डिपॉजिट और बचत खाते में जमा पैसे शामिल थे. अब इन योजनाओं पर आम नागरिकों को पहले जैसे ब्याज मिलेगा.

निर्मला सीतारमण को बयान

वित्त मंत्री निर्मली सीतारमण ने ट्वीट कर कहा कि केंद्र सरकार की छोटी बचत योजनाओं पर लागू ब्याज की दरें पहले जैसे रहेंगी. जो वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान थी. कल रात ब्याज की कटौती को लेकर जो ऑर्डर पास किए गए थे उन्हें जल्द वापस लिया जाएगा.

12 घंटे में वापस लिया फैसला

31 मार्च को करीब 9 बजे सरकार ने स्मॉल सेविंग्स की ब्याज दरों में कटौती करने का फैसला लिया था. आज सुबह करीब साढ़े आठ बजे मोदी सरकार ने इस फैसले को वापस ले लिया.

पिछले साल 1 अप्रैल 2020 में सरकार ने छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दर में कटौती की थी. तब ब्याज दरों में 1.40% की कटौती की गई थी. इसके बाद कल यानी 31 मार्च को ब्याज में कटौती का फैसला लिया था, जिसे आज वापस ले लिया है.

यह भी पढ़ें- 1 अप्रैल से बदल जाएंगे सैलरी और बैंक से जुड़े 10 अहम नियम, जानें क्या पड़ेगा इसका आप पर असर

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles