Wednesday, August 4, 2021

6 साल की बच्ची का हुआ रेप, लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन तो पुलिस ने उन्हें ही जेल में डाल दिया

हरियाणा। चंढीगढ़ में 5 मार्च को एक 6 साल की बच्ची घर के बाहर से गायब हो गई. बच्ची के गायब होने के बाद परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. परिवार और परिचित के लोगों ने उसे रातभर ढूंढा. अगले दिन 6 मार्च की सुबह बच्ची मृत अवस्था में जंगल में पाई गई.

- Advertisement -

डेड बॉडी की कंडीशन को देखकर लोग आग बबूला हो गए और चौराहे पर प्रदर्शन करने लगे. लोगों ने पुलिस से सवाल किया. पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया. अब सवाल यह है कि क्या प्रदर्शन करना और सवाल पूछना गैर-कानूनी है?

क्या है पूरा मामला

चंढीगढ़ में हल्लोमाजरा नाम का एक इलाका है. वहां पर 5 मार्च को एक मजदूर परिवार की 6 साल की बच्ची गायब हो गई. उसके गायब होने के बाद परिजन ने सेक्टर 31 के थाने में शिकायत दर्ज की. इसके बाद पुलिस, परिवार और इलाके के लोग बच्ची की खोज में लग गए. बच्ची का शव 6 मार्च की सुबह जंगल में मिला. उसके कपड़े आधे-अधूरे अस्त-व्यस्त थे. शव को देखकर लग रहा था कि यह मामला रेप के बाद हत्या का है. हत्या भी बड़ी निर्ममता से की गई. उसके सिर पर भारी पत्थरों से हमला किया गया था.

बच्ची के शव की हालत को देखकर लोगों को गुस्सा आ गया. वे हल्लोमाजरा चौक पर पहुंचकर प्रदर्शन करने लगते हैं और हत्यारों को गिरफ्तार करने की मांग करने लगे. पुलिस ने भीड़ को शांत कराने की कोशिश की. लोगों को काफी समझाने की कोशिश भी की. लेकिन भीड़ कुछ समझने को तैयार नहीं थी. पुलिस ने आश्वासन दिया लेकिन भीड़ ने लिखित आश्वासन की मांग की. पुलिस मामले को संभाल नहीं पाई. इसके बाद भीड़ की तरफ से कुछ पत्थर चले, पुलिस ने भी लाठियां भांजी. इसके बाद भीड़ इधर-उधर हो गई.

इस दौरान पुलिस को CCTV कैमरे पर सुराग मिलता है. एक 12 साल का नाबालिग बच्ची को साइकिल पर ले जाता दिखाई देता है. पुलिस ने तुरंत उसे हिरासत में लिया. गिरफ्तार होने बाद उसने कथित तौर पर सच बता दिया, रेप के बाद हत्या का मामला सामने आता है. इसी बीच बच्ची की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आती है. उसमें बच्ची के साथ रेप होने की पुष्टि होती है. आरोपी को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया. फिर उसे बाल सुधार गृह में भेज दिया गया.

तीन लड़के जिनको पुलिस ने गिरफ्तार किया

6 तारीख को प्रदर्शन में शामिल तीन लड़कों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. FIR में इन तीनों के नाम अमनदीप, वैभव और गोपाल लिखे गए हैं.अमनदीप लुधियाना के रहने वाले हैं, वैभव राजस्थान से है और गोपाल हल्लोमाजरा से हैं.

वैभव 26 साल के हैं. वह पंजाब यूनिवर्सिटी से सोशियोलॉजी की पढ़ाई कर रहे हैं. पिछले कई दिनों से चंढीगढ़ में हल्लोमाजरा के पास रायपुर में रह रहे हैं. बच्ची के बलात्कार के बाद जब भीड़ प्रदर्शन करने लगी तो वैभव उसमें शामिल हो गए. बताया जा रहा है कि वैभव नौजवान भारत सभा नाम के एक संगठन से जुड़े हुए हैं. उनके साथियों का कहना है कि वह हल्लोमाजरा के बच्चों को निशुल्क पढ़ाते थे.

अमनदीप सिंह की उम्र 25 साल है और वह पंजाब यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट हैं. वे पंजाब स्टूडेंट यूनियन की स्टेट कमिटी के सदस्य भी हैं. 18 मार्च से अमनदीप की परीक्षा भी है. वहीं, गोपाल 28 साल के हैं वे हल्लोमाजरा के रहने वाले हैं. पुलिस ने FIR में लिखा, तीनों लोग भीड़ को उकसा रहे थे. मारपीट कर रहे थे और पुलिस की ड्यूटी में बाधा डाल रहे थे.

पुलिस के अनुसार भीड़ में करीब 10 लड़के ऐसा कर रहे थे. इनमें से तीन लोगों को गिरफ्तार करने में पुलिस सफल रही लेकिन बाकि भागने में सफल हो गए. पुलिस ने लड़कों को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया. जिसके बाद उन्हें 14 दिन की ज्यूडिशियल रिमांड में भेज दिया गया था.

यह भी पढ़ें- अजीत सिंह हत्याकांड: आरोपी पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने किया कोर्ट में सरेंडर, पूर्व सांसद पर था 25 हजार का इनाम

 

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles