Tuesday, August 3, 2021

उन्नाव केस: हत्या या आत्महत्या? दो नाबालिक लड़कियों की मौत, एकमात्र गवाह को AIIMS भेजने की मांग तेज

यूपी के उन्नाव जिले के बबुरहा गांव में 17 फरवरी को तीन नाबालिग लड़कियों की लाशें खेत में मिली। तीनों को सामुदायिक अस्पताल में ले जाया गया, लेकिन उनमें से दो लड़कियों की मौत हो गई और एक लड़की की हालत गंभीर है। उसे कानुपर के रीजेंसी हॉस्पिटल में रेफर किया गया है।

- Advertisement -

मिली जानकारी के मुताबिक, पुलिस इस मामले को ज़हरखुरानी से जोड़कर देख रही है। शुरुआती जांच में पुलिस को घटना स्थल पर किसी तरह का संघर्ष और लड़कियों के शरीर पर चोट के निशान नहीं मिले हैं।

वहीं, मीडिया से बात करते हुए लड़की के भाई ने कहा, वे दोपहर को घास लेने के लिए खेत गई थीं। शाम होने पर जब घर वापस नहीं आईं तो हम उनको ढूंढने निकल गए जब खेत पहुंचे तो देखा उन्हें दुपट्टे से बांध दिया गया था।

लेकिन पीड़िता की मां ने इसके विपरीत बात बोली। उन्होंने कहा, लड़कियों के मुंह से झाग निकल रहा था। उनके कपड़े भी सही थे। दुपट्टा सही तरह से गले में था। उनके हाथ-पैर बंधे नहीं थे।

पीड़िता के भाई ने बताया कि उनकी किसी से दुश्मनी नहीं थी। अब जिस लड़की का इलाज चल रहा है, वह होश में आए तो मामले की सच्चाई पता चले। इस मामले के संबंध में उन्नाव के पुलिस अधीक्षक सुरेशराव ने कहा, लड़कियों के मुंह से झाग आ रहा था। इसके आधार पर डॉक्टर इसे ज़हरखुरानी का मामला बता रहे हैं। हम सभी पक्षों से बातचीत करके बयान दर्ज कर रहे हैं। इस मामले की गहराई से जांच की जाएगी और उचित कार्रवाई की जाएगी।

कानून व्यवस्था को लेकर सपा ने बीजेपी को घेरा

इसी बीच इस मामले को लेकर सियासत भी गरमाने लगी। समाजवादी पार्टी ने बीजेपी को घरते हुए कहा, समाजवादी पार्टी ने कहा कि बेटियों के काल बन चुके बीजेपी शासित यूपी में सत्ता संरक्षित नृशंस अत्याचाक की एक और विचलित करने वाली घटना का केंद्र उन्नाव बना है! जंगल में पेड़ से बांध कर दो दलित लड़कियों की हत्या, एक अति गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती, अत्यन्त दुखद! दरिंदो को कठोर सजा दिलाकर हो न्याय।

न्याय के लिए दबाव बनाए : जिग्नेश मेवाणी

जिग्नेश मेवाणी ने कहा, उत्तर प्रदेश के सभी लोगों से मेरी अपील है कि जबतक उन्नाव की दुर्घटना की पीड़ित बहनों के आरोपियों को गिरफ्तार किया नहीं जाता है, तब तक उनकी लाश को स्वीकार न करें, न्याय के लिए दबाव बनाए, एक बहन की अच्छे से अच्छे से अस्पताल में भर्ती कराया जाए।

लड़की को एम्स भेजने की मांग तेज

यूपी के ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए लोग इस केस की एकमात्र गवाह को बचाने के लिए दिल्ली AIIMS में शिफ्ट करने की मांग कर रहे हैं। रातभर सोशल मीडिया पर लोगों #SAVE_UNNAO_KI_BETI हैशटैग चलाए हैं। हजारों लोगों ने ट्वीट कर लड़की की जान को खतरा है इसकी आशंका जताई है।

भीम आर्मी के चीफ चन्द्रशेखर आजाद लड़की को एयरलिफ्ट करने की मांग की है। उन्होंने ट्वीट करके कहा, उन्नाव केस में एकमात्र गवाह बच्ची का बेहतर इलाज व उसकी सुरक्षा सबसे जरूरी है। बच्ची को तुरंत एयर एंबुलेंस से AIIMS दिल्ली लाया जाए, उत्तर प्रदेश सरकार अपराधियों को संरक्षण व अपराधियों के मामले में सरकार की कार्यशैली को देश हाथरस कांड के रूप में देख चुका है।

इसी बीच, हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक, प्रशासन ने घटनास्थल की घेराबंदी कर दी है। पीड़त लोगों के परिवार से किसी को मिलने और बात करने की अनुमति नहीं है। मीडिया के लोगों को भी रोका जा रहा है।

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles