Wednesday, August 4, 2021

आखिर वैक्सीन के साइड इफेक्ट से हुई मौतों का क्या है सच?

भारत के टॉप एडवर्स इवेंट्स फॉलोइंग इम्युनाइजेशन (AEFI) कमेटी को एक प्रजेंटेशन दी गई. जिसमें बताया कि 29 मार्च तक देश में कोविड वैक्सीनेशन के बाद 180 लोगों की मौत हो गई. AEFI ऐसे मामलों को देखती है जिनमें बीमारी के वैक्सीन लगाने के बाद लोगों की मेडिकल समस्या होती है. लेकिन कोई जरूरी नहीं है कि समस्या वैक्सीन की वजह से हुई हो.

- Advertisement -

भारत में केंद्र और राज्य सरकार की अलग-अलग AEFI कमेटियां होती हैं जो इन आंकड़ों को देखती हैं. आपको बता दें, कि इस साल 16 जनवरी से लेकर अब तक 9.54 करोड़ लोगों को कोविड वैक्सीन लग चुकी है. इनमें से 1.12 करोड़ लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी जा चुकी है.

कमेटी के पास लेटेस्ट डाटा नहीं

AEFI के पास वैक्सीनेशन की समस्याओं का सिर्फ 31 मार्च तक का डाटा है. 9 अप्रैल का लेटेस्ट आंकड़ा नहीं है. AEFI डेटा रिसर्च प्रोसेस में शामिल हुए एक अधिकारी ने बताया कि वैक्सीन की डोज लेने के बाद करीब 20 हजार से ज्यादा लोगों में साइड इफेक्ट देखने को मिले हैं.

वैक्सीन चाहे कोविशील्ड हो या कोवैक्सीन दोनों के लगने बाद साइड इफेक्ट दिखे हैं. वैक्सीन की डोज लेने के बाद करीब 97% लोगों ने हल्के-फुल्के साइड इफेक्ट की शिकायत की है. कुछ लोगों ने तो गंभीर साइड इफेक्ट की शिकायत की है. लेकिन पिछले कई महीनों से साइड इफेक्ट के मामलों को लेकर सरकार की तरफ से कोई नई अपडेट लिस्ट सामने नहीं आई है.

AEFI कमेटी के सामने पेश की गई इम्युनाइजेशन टेक्निकल सपोर्ट यूनिट की प्रजेंटेशन में ऐसे कई मामलों के बारे में बताया है. इसके अनुसार 31 मार्च तक गंभीर साइड इफेक्ट के 617 मामले सामने आए थे. जिनको साइड इफेक्ट हुआ उनमें से 305 लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती करना पड़ा. इनमें से 276 लोग ऐसे थे जिन्हें वैक्सीन देने के तीन बाद ही अस्पताल में भर्ती करना पड़ा. अगर हम इससे जुड़े मौत के आंकड़े देखें तो वैक्सीन देने के तीन बाद 124 लोगों की मौत हो गई.

खास तरह के लोगों को हो रहा साइड इफेक्ट

बता दें, यह कोई जरूरी नहीं है कि ये मौतें वैक्सीन के साइड इफेक्ट से ही हुई हों. पूरी दुनिया में वैक्सीन और दवाओं को लेकर ऐसी चिंताजनक बातें बनी रहती हैं. AEFI कमेटी की इन्वेस्टिगेशन में भी यह सामने आ चुका है कि कुछ दवाएं और वैक्सीन खास तरह के लोगों के लिए खतरनाक बन जाती हैं. देश की नेशनल AEFI कमेटी के साथ अलग-अलग संस्थाओं ने भी वैक्सीन का रिव्यू किया है और उन्होंने पाया कि दुनियाभर की कोरोना वैक्सीन सुरक्षित हैं. सरकार का भी यही कहना है कि कोवीशील्ड और कोवैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं.

वैक्सीन लेने की बाद मौत की सबसे बड़ी वजह
कैटेगरी<3दिन4-7 दिन8-28 दिन>28 दिनकुल
दिल का दौरा49104063
स्ट्रोक1121014
अचानक मौत721010
श्वसन तंत्र में संक्रमण40105
अज्ञात वजहों से923014
सोर्स:ITSU AEFI सेक्रेटेरिएट का नेशनल AEFI कमेटी को दिया प्रजेंटेशन
तो जो मौतें हुई हैं उनका क्या मतलब निकाला जाए

भारत की केंद्रीय AEFI कमेटी वैक्सीन के गंभीर साइड इफेक्ट और मौतों को लेकर अध्ययन कर रही है. अध्ययन के जब इसकी रिपोर्ट सामने आएगी तो बताया जा सकेगा कि असल में मजरा क्या है? लेकिन कमेटी के पास अभी तक के 600 मामलों की जानकारी है उनमें से सिर्फ 236 (38.6%) के बारे में ही पूरी तरह से पता चल पाया है.

कमेटी ने वैक्सीन साइड इफेक्ट की जानकारी जुटाने के लिए लोगों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट, मेडिकल हिस्ट्री, ऑटोप्सी, हॉस्पिटल की रिपोर्ट और इससे जुड़े अन्य डॉक्यूमेंट का इस्तेमाल किया है. हालांकि कमेटी के इस प्रयास के सामने भी बहुत सारी समस्याएं है. कमेटी ने बताया कि उनके सामने कुछ ऐसे मामले सामने आएं है जिनमें बताया ही नहीं गया है कि व्यक्ति की मौत वजह क्या है? जिसके कारण बहुत ही कम मेडिकल जानकारियां मिल पाती हैं.

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles