Wednesday, August 4, 2021

सरकार ने सख्त एक्शन की बात कही तो नक्सलियों ने दिया ये बेतुका लॉजिक

रायपुर। छत्तीसगढ़ में 3 अप्रैल को नक्सलियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ हुई. जिसमें सुरक्षा बल के 22 जवान शहीद और 31 घायल हो गए. एक जवान अब भी लापता है. इस मुठभेड़ के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि बीजापुर में जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक मोड़ पर पहुंच गई है. उनके खात्मे के लिए ऑपरेशन चलाया जाएगा.

- Advertisement -

गृहमंत्री के इस बयान के बाद नक्सलियों ने उल्टा उन्हें चिट्ठी लिखी और अमित शाह पर आरोप लगाया कि वह अवसंवैधानिक काम कर रहे हैं. चलिए जानते हैं नक्सलियों ने चिट्ठी में क्या लिखा.

नक्सलियों का हमला सही, अमित शाह का बदला लेना असंवैधानिक

CPI (Maoist), यह नक्सलियों का संगठन है. जिसे भारत सरकार ने बैन कर रखा है. CPI (Maoist) के केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने 5 अप्रैल को एक प्रेस नोट जारी किया. जिसमें नक्सलियों के हमले को सही ठहराने की कोशिश की.
साथ ही नक्सलवादी घटनाओं को बढ़ावा देने की बात की.

इसमें लिखा गया- अमित शाह देश के गृहमंत्री होने के बावजूद बीजापुर की तर्रेम घटना का बदला लेने की असंवैधानिक बात कर रहे है. यह उनकी बौखलाहट को दिखाता है. अमित शाह किस-किस से बदला लेंगे? अमित शाह बदला लेने की बात छोड़ दिल्ली में घेरे में बैठ किसानों की समस्या का हल करें. पुलिस के जवानों से हमारी कोई निजी दुश्मनी नहीं है लेकिन हम उन्हें मारने के लिए मजबूर हैं.

CPI Maoist

गुमशुदा जवान की बेटी ने लगाई गुहार

इसी दौरान सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह मनहास, जो नक्सली हमले के बाद से लापता हैं, उनकी बेटी ने अपने पिता की आजादी के लिए गुहार लगाई. जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. वीडियो में बच्ची की अपील इतनी भावुक है कि पास में बैठे उसके अंकल के आंख में आंसू आ गए. 5 साल की राघवी ने कहा कि नक्सल अंकल प्लीज मेरे पापा को छोड़ दो. पापा की परी पापा को बहुत मिस कर रही है.

 

नक्सलियों पर होगी सख्त कार्रवाई

सोमवार को गृहमंत्री अमित शाह और छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने बीजापुर नक्सली हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी. इस बीच कहा कि 5 से 6 साल के अंदर हमने काफी कैंप बना लिए हैं. इसी झुंझलाहट में ऐसी घटनाएं सामने आई हैं.

अमित शाह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैं देश और शहीदों के परिजनों को आश्वस्त करता हूं कि उनकी कुर्बानी व्यर्थ नहीं जाएगी. पिछले कुछ सालों में नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई निर्णायक मोड़ पर पहुंच गई है. इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना ने इसे और आगे बढ़ा दिया है.

अमित शाह ने बताया कि उन्होंने सीएम भूपेश बघेल और सुरक्षा बलों के साथ बैठक की है. इस बैठक में सुरक्षा बलों के अधिकारियों ने सुझाव दिया कि नक्सलियों के खिलाफ चल रहे ऑपरेशन की गति को कम नहीं होने दिया जाए. गृहमंत्री ने कहा कि इससे पता चलता है कि जवानों के हौसले कम नहीं है. मैं देश को आश्वस्त करना चाहता हूं कि ये लड़ाई जारी रहेगी और यह दोगुनी रफ्तार से आगे बढ़ेगी. हम इसे अंजाम तक ले जाएंगे. अंत में नक्सलवादियों के खिलाफ हमारी जीत होगी.

बता दें, शनिवार 3 अप्रैल को बीजापुर और सुकमा जिले की सीमा पर नक्सलियों ने सुरक्षा बलों पर हमला कर दिया. ये नक्सली घात लगाकर सुरक्षा बल के इंतजार में बैठे थे. नक्सलियों ने 700 जवानों को घेर लिया और उन पर हमला कर दिया. इसमें कोबरा बटालियन,DRG,STF और बस्तरिया बटालियन के जवान शामिल थे. इस हमले में 22 जवान शहीद हो गए. 4 अप्रैल को सर्च ऑपरेशन चलाया गया और जवानों के शवों को बरामद किया. इनमें से एक जवान लापता है, जिसकी खोज की जा रही है. माना जा रहा है कि वह नक्सलियों के कब्जे में है.

यह भी पढ़ें- TMC नेता के घर में EVM मिलने से हुआ बवाल, चुनाव आयोग ने सेक्टर ऑफिसर को किया निलंबित

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles