Tuesday, August 3, 2021

तृणमूल ने बीजेपी पर लगाए कैश कूपन बांटने के आरोप, पार्टी ने कहा यह कूपन नहीं डोनेशन रसीद है

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के दौरान एक नया विवाद शुरु हो गया है. यह विवाद कूपन को लेकर है. जिस पर सियासी संग्राम छिड़ गया है. दरअसल, मंगलवार को तीसरे चरण के मतदान के बाद तृणमूल कांग्रेस (TMC) और लेफ्ट ने बीजेपी पर समर्थन खरीदने का आरोप लगाया. आरोप है कि बीजेपी ने रैली में भीड़ जुटाने के लिए 1000 के कूपन बांटे हैं. हालांकि, बीजेपी ने इन सभी आरोपों को निराधार बताया है.

- Advertisement -

बंगाल में तीसरे चरण के मतदान में खूब जमकर वोटिंग हुई और 77.86 फीसदी मतदान दर्ज किया गया. इस बीच तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़पें भी हुईं. दोनों पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पत्थरबाजी की और कैंडिडेट्स पर हमले भी किए.

TMC सांसद ने दी जानकारी

इन कूपनों की जानकारी TMC सांसद महुआ मोइत्रा ने ट्वीटर पर फोटो शेयर कर दी. उन्होंने लिखा, मोदी इसी तरह घर-घर पहुंच रहे हैं. इलेक्शन कमीशन से अपील है कि इस पर एक्शन लिया जाए और इन्हें ऐसे न जाने दिया जाए. इसे लेकर तृणमूल और लेफ्ट ने कहा कि बीजेपी लोगों को 1000 के कूपन दे रही है ताकि वे उनके पाले में आ जाएं. अप्रैल को ज्योनगर में मोदी की रैली हुई थी. उसमें शामिल होने के लिए यह रकम दी गई थी. इसके अलावा बीजेपी ने यह कूपन अपने पक्ष में वोट डालने के लिए बांटे हैं.

ग्रामीणों को गिफ्ट देने का किया वादा

टेलीग्राफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक वहां पर रहने वाले ग्रामीणों ने बताया कि ये 1000 के कूपन मोदी की रैली में शामिल होने के लिए बांटे गए. साथ ही उनसे वादा किया गया कि कूपन के जरिए गांव के लोगों को तोफहा दिया जाएगा. मिली जानकारी के मुताबिक यह कूपन साउथ 24 परगना के रायदीघी में बीजेपी समर्थकों के हाथ में देखे गए हैं. इन कूपनों में 1000 रुपए का जिक्र है और पीएम मोदी की तस्वीर लगी है. हालांकि, बीजेपी का कहना है कि यह कूपन नहीं बल्कि डोनेशन की रसीद है. बीजेपी ने कहा कि ज्योनगर में सभी कराने के लिए चंदा इकट्ठा किया गया था और इसमें जो डोनेशन आया, हमने उसकी रसीद बनाई.

मिले अलग-अलग बयान

वहीं, रायदीघी के भाजपा प्रत्याशी शांतनु बापूली ने अलग ही कहानी बताई. उन्होंने पहले कहा ऐसा कोई कूपन नहीं है जिससे पेमेंट की जा सके. लेकिन बाद अपने ही बयान से पलटते हुए कहा कि इस कूपन के जरिए मोदी की रैली में आने वाले लोगों के ट्रांसपोर्टेशन के पेमेंट किए गए हैं. उदाहरण के लिए यदि किसी शख्स का ट्रांसपोर्टेशन बिल 2 हजार बनता है तो वह दो कूपन दिखाकर कैश ले जा सकता है. इसका मतलब कूपन कैश कराया जा सकता है.

यह भी पढ़ें- जवानों की शहादत पर असमी लेखिका के बिगड़े बोल, कहा- सैलरी लेने वाले जवान शहीद नहीं

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles