Tuesday, August 3, 2021

बंगाल चुनाव से पहले CBI का बड़ा एक्शन, ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के घर भेजा नोटिस

पश्चिम बंगाल में CBI ने बड़ी कर्रवाई की है। कोयला घोटाले की जांच के मामले में CBI की टीम रविवार को सीएम ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के घर पहुंची। टीम ने अभिषेक की पत्नी रुजिरा बनर्जी को जांच में शामिल होने के लिए समन दिया। इससे पहले भी CBI ने रुजिरा को नोटिस भेजा था। CBI ने इतना बड़ा एक्शन तब लिया है, जब बंगाल में विधानसभा चुनावों की राजनीतिक गहमागमी चल रही है।

हम डरने और झुकने वाले नहीं: अभिषेक बनर्जी

- Advertisement -

इस मामले के बारे में अभिषेक बनर्जी ने सोशल मीडिया पर कहा, आज दोपहर 2 बजे CBI ने मेरी पत्नी को नोटिस दिया। हमें कानून पर पूरा यकीन है। उन्होंने केंद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि अगर उन्हें लगता है कि इस तरह से वह हमें डरा लेंगे, तो उनकी यह बहुत बड़ी भूल है। हम उनमें से नहीं हैं, जिन्हें झुकाया जा सके।

cbi notice

नोटिस की टाइमिंग पर उठ रहे सवाल

हालांकि, CBI की इस नोटिस की टाइमिंग को लेकर सवाल उठ रहे हैं। विधानसभा चुनाव से पहले इस तरह की नोटिस को TMC  ने राजनीति बताया है। इससे पहले भी ममता सरकार ने कई बार केंद्र सरकार पर सरकारी एजेंसियों का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है।

13 जगहों छापे मार चुकी है एजेंसी

इस मामले में CBI ने शुक्रवार को राज्य के पुरुलिया, बांकुरा. बर्दवान और कोलकाता में 13 जगहों पर छापे मारे थे। एजेंसी ने यह छापे युवा तृणमूल कांग्रेस के नेता विनय मिश्रा, व्यवसायी अमित सिंह और नीरज सिंह के ठिकानों पड़े हैं। छापे के समय कोई भी घर पर मौजूद नहीं था।

इससे पहले 11 जनवरी को ED ( प्रवर्तन निदेशालय) ने हुगली, कोलकाता, उत्तर 24 परगना, आसनसोल, दुर्गापुर, बर्धमान में छापे मारे थे।

घोटाले में TMC नेताओं पर लगे है आरोप

कोयला घोटाले मामले में TMC के नेताओं पर आरोप लगे हैं। इसमें अभिषेक बनर्जी का भी नाम शामिल है। आरोप है कि बंगाल में अवैध रूप से हजार करोड़ के कोयले का खनन हुआ है और उसे एक रैकेट के जरिए ब्लैक मार्केट में बेचा गया है। इस मामले में CBI ने दिसंबर में कोलकाता के CA गणेश बगारिया के दफ्तर पर छापा मारा था।

पिछले साल सितंबर में शुरु हुई थी जांच

कोयला घोटाला मामले की जांच पिछले साल सितंबर में शुरु हुई था। तब से बीजेपी TMC के नेताओं पर आरोप लगा रही है कि कोयला घोटाले से मिली ब्लैक मनी TMC के नेता शेल के जरिए वाइट मनी में बदल रहे हैं। इसमें सबसे ज्यादा फायदा ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी को हुआ है।

कोर्ट ने दी जांच की मंजूरी

अभिषेक बनर्जी TMC युवा विंग के अध्यक्ष हैं। उन्होंने अपनी पार्टी में विनय मिश्रा समेत 15 युवाओं को महासचिव बनाया था। कोयला घोटाले के मामले में विनय मिश्रा पहले से ही आरोपी है। TMC ने CBI की जांच रोकने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे कोर्ट ने नामंजूर कर दिया था।

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles