Tuesday, August 3, 2021

26 जनवरी हिंसा: दिल्ली पुलिस ने उस किसान को नोटिस भेजा, जिसकी मौत पिछले साल हो चुकी है

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में किसान दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं. इस आंदोलन के 101 दिन पूरे हो गए हैं. किसानों ने 26 जनवरी को इन कानूनों के विरोध में ट्रैक्टर रैली निकाली. लेकिन रैली में हिंसा और उपद्रव भड़क गया. इस हिंसा के मामले की जांच की दिल्ली पुलिस कर रही है.

- Advertisement -

इसी सिलसिले से दिल्ली पुलिस कई किसानों को नोटिस भेज रही है और पूछताछ के लिए पेश होने के लिए बोल रही है. इसी बीच दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे किसान को नोटिस भेजा है, जिनकी मौत 31 दिसंबर 2020 में हो चुकी है.

notice to dead man

क्या है पूरा मामला

दिल्ली पुलिस ने 26 जनवरी की हिंसा के मामले में सुरजीत सिंह के बेटे भूपिंदर सिंह के घर नोटिस भेजा. भूपिंदर सिंह पंजाब के रोपड़ जिले के रहने वाले हैं. नोटिस में जागीर सिंह, सुरजीत सिंह और गुरचरण सिंह का नाम लिखा हुआ है. तीनों को 3 मार्च को दिल्ली पुलिस ACP क्राइम ब्रांच के ऑफिस में पेश होना है. नोटिस पाकर परिवार हैरान है. जागीर सिंह की पिछले साल 31 दिसंबर को मौत हो चुकी है. सुरजीत सिंह की उम्र 87 साल से अधिक है, यह ठीक से चल-फिर नहीं पाते. गुरचरण सिंह किसान नहीं बल्कि एक टीचर हैं.

कैसे चला गया नोटिस?

इसको लेकर दिल्ली पुलिस ने दो ट्वीट किए हैं. पहले ट्वीट में दिल्ली पुलिस ने कहा, पंजाब रजिस्टरिंग अथॉरिटी के ओनरशिप रिकॉर्ड के अनुसार टैक्टर नंबर PB 27 6306 तीन लोगों के नाम पर रजिस्टर है. जिसमें जागीर, सुरजीत और गुरचरण का नाम है. इसलिए उन्हें जांच में शामिल होने के लिए नोटिस भेजा गया है. दिल्ली पुलिस ने अपने दूसरे ट्वीट में ट्रैक्टर की फोटो शेयर की है.

26 जनवरी की हिंसा में उनका ट्रैक्टर शामिल हैं या नहीं….इसको लेकर भूपिंदर सिंह ने कहा, 14 साल पहले हमने अपना ट्रैक्टर एजेंसी को दे दिया था. हम इस बात का पता नहीं कि एजेंसी ने उसको ट्रांसफर कराया था या नहीं. जिस ट्रैक्टर की बात हो रही है, वह तो हमारे पास पिछले 14 सालों से है ही नहीं. एजेंसी से ही पता चलेगा कि उसका मालिक कौन है.

vahan.parivahan.gov.in की साइट पर जब हमने पड़ताल की. तो पता चला यह ट्रैक्टर अभी भी तीनों भाइयों के नाम पर रजिस्टर है. तीन मार्च को तीनों भाइयों की पेशी होनी थी, लेकिन हुई नहीं. इसके बाद भूपिंदर सिंह के पास क्राइम ब्रांच की तरफ से कोई फोन नहीं आया. इसके अलावा अभी तक पुलिस भी नहीं आई है.

tractor registration

यह भी पढ़ें- किसान आंदोलन: हर मंत्री खुद को किसान बोलता है, पर उनकी संपत्ति करोड़ों में है

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles