Tuesday, August 3, 2021

मुस्लिम बच्चे की पिटाई पर मंदिर के पंडित ने कहा- वह यहां सिर्फ पानी पीने नहीं आया था

उत्तर प्रदेश। हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुई थी. जिसमें एक आदमी मुस्लिम लड़के को पीटते हुए नजर आ रहा था. बताया जा रहा है कि आदमी ने उस लड़के को इसलिए पीटा क्योंकि उसने मंदिर के परिसर से पानी पिया था. इस वीडियो के वायरल होने बाद सोशल मीडिया पर हल्ला मच गया. #Sorry_Asif ट्रेंड करने लगा. बता दें, यह वीडियो उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद का है.

- Advertisement -

सोशल मीडिया पर हंगामा होने के बाद उस मंदिर के पंडित का इंटरव्यू लिया गया. उन्होंने बताया कि मुस्लिम आपराधिक गतिविधियों में शामिल हैं और मासूम बच्चों के नाम पर इसे बढ़ावा देते हैं. सोशल मीडिया पर वायरल हो रही वीडियो, जिसमें आसिफ को मारा जा रहा है. उसे गलत तरीके से दिखाया जा रहा है.

मंदिर में पानी पीने नहीं आया था आसिफ

पंडित ने आरोप लगाते हुए कहा कि आसिफ मंदिर में पानी पीने नहीं आया था. वह मंदिर में कीमती सामान चुराने और हिंन्दू लड़कियों को परेशान करने के उद्देश्य से आया था. उन्होंने आगे कहा कि मंदिर के बाहर दो सरकारी नल लगे हुए हैं. वहीं, एक नल मंदिर के प्रवेश द्वार के पास भी लगा हुआ लेकिन आसिफ मंदिर के पीछे मिला. वह यहां सिर्फ पानी पीने नहीं आया था.

कुछ सालों से चल रहा है पैटर्न

पंडित ने बताया कि कुछ सालों से यही पैटर्न चल रहा है. ये लोग (मुस्लिम) मंदिर के अंदर आते हैं. हिंदू लड़कियों को छेड़ते हैं, देवी-देवताओं की मूर्तियों के साथ गंदा काम करते हैं और मंदिर से कीमती सामान चुरा कर ले जाते हैं. उन्होने सवाल उठाते हुआ कहा कि जब मंदिर के बाहर पानी पीने के लिए नल लगा हुआ है तो कोई 500 मीटर चलकर मंदिर के अंदर क्यों आएगा?

अपराध को छुपाने के लिए कहानी बनाई

उन्होंने कहा कि पानी पीने की जो कहानी बनाई जा रही है. वह महज एक छलावा है. आसिफ को कुछ चोरी करते हुए पकड़ा गया था. तभी उसकी पिटाई की गई थी. यहां पर आसिफ के जैसे कई मुसलमान हैं, जो मंदिर अंदर आकर कीमती वस्तुओं की चोरी करते हैं. लेकिन जब पकड़े जाते हैं तो खुद को निर्दोष बताते हैं और कहते हैं कि वे सिर्फ पानी पीने आए थे.

कई बार मंदिर में हो चुकी डकैती

मंदिर के पंडित ने कहा कि एक विशेष समुदाय के लोग दिन में मंदिर आते हैं और पूरा जायजा लेते हैं. फिर रात को डकैती करते हैं. अब तक मंदिर में 4 बार चोरी हो चुकी है. इसके अलावा उन्होंने बताया कि मंदिर के बाहर एक बोर्ड लगा है. जिसमें लिखा है कि मुसलमानों का प्रवेश वर्जित है. इस बोर्ड को लगे हुए करीब 7-8 साल हो चुके हैं. पंडित ने बताया, यह बोर्ड समाजवादी पार्टी के कार्यकाल के समय लगाया गया था.

यह भी पढ़ें- 6 साल की बच्ची का हुआ रेप, लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन तो पुलिस ने उन्हें ही जेल में डाल दिया

 

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles