Saturday, October 16, 2021

एंटीलिया केस: मनसुख हिरने की मौत पर उठे सवाल, आज आएगी पोस्टमार्टम रिपोर्ट, मिलेंगे सभी सवालों के जवाब?

महाराष्ट्र। कुछ दिन पहले मुकेश अंबानी के घर के पास संदिग्ध स्कॉर्पियो कार खड़ी मिली थी. कार में विस्फोटक जिलेटिन की छड़ें और एक धमकी भरा पत्र मिला था. इस कार के मालिक मनसुख हिरेन थे. अब उनकी मौत की खबर सामने आई है.

- Advertisement -

मिली जानकारी के मुताबिक, मनसुख की बॉडी कीचड़ में मिली थी. पुलिस वर्कर्स जब बॉडी को साफ कर रहे थे, तो उनके मुंह से रुमाल निकले थे. बताया जा रहा है कि मनसुख के मुंह से पांच रुमाल निकले हैं. रुमाल मिलने के बाद मनसुख की आत्महत्या पर सवाल उठ रहे हैं. हिरेन की मौत को लेकर उनके परिवार ने बड़ा आरोप लगाया है. उनका कहना है कि मनसुख को पहले मारा गया. फिर उसके बाद डुबाया गया.

एक पुलिसकर्मी का आया था फोन

मनसुख की पत्नी विमला हिरेन का कहना है कि मनसुख को पुलिस कॉल करती थी. उन्हें रोज सुबह से शाम तक बिठाती थी. बीती रात जब वे घर से निकले तो एक पुलिसकर्मी तावड़े का फोन आया था. उसने उन्हें घोड़बंदर बुलाया था. मनसुख ने कहा था कि वे जल्दी से मिलकर लौट आएंगे.

विमला ने बताया कि उसने 10 बजे रात को फोन किया तो मनसुख का फोन स्विच ऑफ आ रहा था. जब वह रात को 1 बजे तक नहीं लौटे तो परिवार ने पुलिस स्टेशन में जाकर शिकायत की. विमला ने कहा मनसुख आत्महत्या नहीं कर सकते हैं. उनकी मौत की जांच होनी चाहिए.

मनसुख अच्छे तैराक थे

इस मामले के संबंध में मनसुख के बाई विनोद ने कहा कि वे अच्छे तैराक थे और सोसाइटी के बच्चों को तैरना सिखाते थे. अब ऐसे में जो व्यक्ति खुद दूसरों को पानी से बचना सिखाता हो वह भला पानी में कूदकर अपनी जान क्यों लेगा. पड़ोसियों का भी कहना है वह घंटो तक पानी में तैर सकते थे. उनकी मौत डूबकर नहीं हो सकती है.

परिवार ने की शव की पहचान

वहीं, एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मनसुख के परिवार का कहना है कि वे बृहस्पतिवार 4 मार्च से गायब थे. परिजन ने शुक्रवार को ठाणे में मनसुख के गायब होने की रिपोर्ट लिखाई था. रिपोर्ट लिखी जा रही थी, तभी एक खबर आई कि ठाणे में एक शव मिला है. शव पानी में होने की वजह से फूल गई थी.

मनसुख हिरेन ठाणे का रहने वाला था. उनका ऑटोमोबाइल पार्ट का बिजनेस था. पुलिस स्टेशन में गुमशुदी की रिपोर्ट लिखाने पहुंचे परिवार को उस जगह ले जाया गया, जहां से शव मिला था. परिवार ने बॉडी का पहचान कर बताया कि यह शव मनसुख का है.

आत्महत्या का मामला बताया जा रहा था

शुरूआत में कहा जा रहा था कि मनसुख ने क्रीक से कूदकर आत्महत्या की है, लेकिन उनके परिवार ने आरोप लगाया कि उन्हें डुबोकर मारा गया है. मनसुख के परिवार का आरोप है कि इसके पीछे बड़ी साजिश है. इसी बीच महाराष्ट्र सरकार ने ऐलान किया कि इस मामले की जांच ATS करेगी.

पहले मुंबई और ठाणे पुलिस के सूत्रों का कहना था कि मनसुख ने आत्महत्या की है. यहां तक मुंबई पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर ने भी इसे आत्महत्या करार दिया था. लेकिन जब जांच आगे बड़ी तो पता चला कि बॉडी संदिग्ध हालत में पाई गई थी. ऐसी स्थिति में ठाणे पुलिस ने मामले के संबंध में एडीआर दायर की है. हालांकि, आत्महत्या के केस में एडीआर दायर की जाती है और हत्या के मामले में 302 के तहत रिपोर्ट लिखी जाती है.

फिर जैसे -जैसे मामला गंभीर होता गया. मुंबई पुलिस इस संबंध में बोलने से इंकार करने लगी. इसके बाद ठाणे पुलिस ने रिपोर्ट में बताया कि बॉडी संदिग्ध स्थिति में मिली है. आज पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आएगी. इसके बाद पता चलेगा कि मामला हत्या का है या फिर आत्महत्या का. पुलिस ने भी साफ कर दिया है कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा कि मनसुख की हत्या हुई या उन्होंने सुसाइड किया. फिलहाल अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है.

फडणवीस ने किए चौकाने वाले दावे

मनसुख की मौत को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के नेता देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा में चौकाने वाले दावे किए थे. उनका कहना था कि अंबानी के घर के पास एक नहीं बल्कि दो गाड़ियां थी. दोनों गाड़िया ठाणे रूट से आई थीं.

फडणवीस ने कहा घटनास्थल पर सबसे पहले पहुंचने वाले पुलिस अधिकारी सचिन वाजे थे. पहले उन्हें यह केस इनवेस्टिगेट करने को दिया था. लेकिन तीन दिन के बाद उन्हें हटा दिया गया. मनसुख के फोन पर कुछ कॉल्स आई थीं. जिस नंबर से ये कॉल किए गए हैं. वह सचिन वाजे के नाम पर रजिस्टर्ड हैं.

देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को ANI से बात करते हुए बताया कि मैने सदन में मनसुख हिरेन को सुरक्षा देने का मुद्दा उठाया था, क्योंकि वह मामले की मुख्य कड़ी थे. इसलिए खतरे में हो सकते थे. अब हमें उनकी डेडबॉडी मिली है. यह मालमा काफी गड़बड़ है. इस घटना और आतंकी एंगल को देखते हुए हम मामले की जांच NIA से कराने की मांग करते हैं.

यह भी पढ़ें- अजीत सिंह हत्याकांड: आरोपी पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने किया कोर्ट में सरेंडर, पूर्व सांसद पर था 25 हजार का इनाम

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles