Friday, October 15, 2021

‘गोडसे की आरती’ उतारने वाले को कांग्रेस ने किया अपनी पार्टी में शामिल

भोपाल। हिंदू महासभा के नेता और मध्य प्रदेश के ग्वालियर में वार्ड नंबर-44 के पार्षद बाबूलाल चौरसिया ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. जिसको लेकर सियासी विवाद शुरू हो गया है. यहां पर विवाद सिर्फ इस बात का नहीं है, कि हिंदू महासभा के नेता ने कांग्रेस को ज्वाइन किया है. बात इससे भी बड़ी है.

- Advertisement -

दरअसल, बाबूलाल जिस वार्ड से पार्षद हैं, वहां पर महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का मंदिर बना हुआ था. इस मंदिर में बाबूलाल ने भी आरती उतारी है. अब जब वह मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में कांग्रेस की शरण में आए हैं तो विवाद होना सामान्य था. इसको लेकर बीजेपी कांग्रेस को घेर रही है, लेकिन साथ में कांग्रेस भी अलग-अलग खेमों में बंटी नजर आ रही है.

जानते हैं आखिर मामला क्या है?

सात साल पहले हिंदू महासभा के नेता बाबूलाल चौरसिया ने कांग्रेस को छोड़कर हिंदू महासभा का दामन थाम लिया था. महासभा में शामिल होने के बाद बाबूलाल ने 2017 में नाथूराम गोडसे का एक मंदिर बनवाया था और उसमें आरती भी की थी. अब वह फिर से कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं. इसकी जानकारी मध्यप्रदेश कांग्रेस ने खुद ट्वीट कर दी. ट्वीट में लिखा-

हिन्दू महासभा के नेता कांग्रेस में शामिल. ग्वालियर के वार्ड 44 के पार्षद एवं हिन्दू महासभा के नेता श्री बाबूलाल चौरसिया आज प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ जी की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हुए। श्री चौरसिया जी का कांग्रेस परिवार में स्वागत है।

यह भी पढ़ें- हिपोक्रेसी: पाक ने 5133 बार सीजफायर का उल्लंघन किया और शांति बनाने की जिम्मेदारी भारत की!

क्या कांग्रेस के नेताओं ने क्या कहा

इसके बाद पार्टी के नेता अलग-थलग दिखने लगे. कुछ नेताओं ने बाबूलाल को कांग्रेस में शामिल करने पर विरोध किया, तो कुछ ने इसका समर्थन किया. 26 फरवरी को जब कमलनाथ से इस बारे में सवाल किया गया, उन्होंने कहा-

कौन हैं बाबूलाल चौरसिया, कातिल विचारधारा जिसने महात्मा गांधी की हत्या की वो आज भी जिंदा है, हम इस पर शर्मिंदा हैं.

बाबूलाल को पार्टी में शामिल करने पर कांग्रेस के विधायक और दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने ट्वीट कर विरोध किया और लिखा-

गोडसे के उपासकों के लिए सेंट्रल जेल उपयुक्त स्थान है,कांग्रेस पार्टी नहीं। गृह मंत्रालय भी गोडसे समर्थकों की गतिविधियों पर नजर रखे तो उचित होगा।

वहीं कांग्रेस पार्टी के सचिव उमंग सिंगार ने बाबूलाल चौरसिया का समर्थन किया और ट्वीट कर लिखा-

इंदिरा जी, राजीव जी के हत्यारों को गांधी परिवार ने माफ कर दिया गांधीजी जिन्दा होते तो गोड्से को भी माफ कर देते । महात्मा गांधी अमर हैं अमर रहेंगे । गोड्से की विचारधारा को त्याग कर जो भी गांधी जी की विचार धारा वाली पार्टी कांग्रेस में आ रहा हैं वे सभी स्वागत योग्य है.

बीजेपी ने कसा तंज

इसको लेकर मध्यप्रदेश को गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा कांग्रेस पर तंज करते हुए ट्वीट किया-

गोडसे का पुजारी अब करेगा कांग्रेस की सवारी” नाथूराम गोडसे के पुजारी को पार्टी में शामिल करने से कांग्रेस का दोहरा चरित्र ही सामने आता है। उसके लिए तो #Gandhi के नाम पर सिर्फ तथाकथित गांधी परिवार ही अहम है, राष्ट्रपिता #MahatmaGandhi जी नहीं।

 

 

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles