Wednesday, August 4, 2021

ISRO ने अमेजोनिया-1 सैटेलाइट के संग पीएम मोदी की तस्वीर और ई-गीता को अंतरिक्ष में भेजा

नई दिल्ली। भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो (ISRO) ने साल 2021 का आगाज अपने तरीके से कर दिया है. उसने ब्राजील के अमेजोनिया-1 समेत 19 उपग्रहों को एक साथ अंतरिक्ष में भेजा है. भारत के पीएलएलवी ( ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान) सी-51 ने रविवार को श्रीहरिकोट अंतरिक्ष केंद्र से उड़ान भरी. 2021 में यह इसरो का पहला मिशन है. इस मिशन की खास बात यह है कि उपग्रहों के साथ पीएम मोदी की तस्वीर भी अंतरिक्ष में गई है.

- Advertisement -

पीएलएलवी सी-51 ने 26 घंटे की उल्टी गिनती के बाद चेन्नई से करीब 100 किमी दूर स्थित सतीश धवन लॉन्च पैड से सुबह 10.24 पर उड़ान भरी है. यान ने 18 अन्य उपग्रहों को कक्षा में स्थापित किया. करीब 18 मिनट के बाद अमेजोनिया-1 को उसकी कक्षा में स्थापित किया जाना था लेकिन 18 अन्य उपग्रहों को स्थापित करने में 2 घंटे लग गए.

यह भी पढ़ें- ‘गोडसे की आरती’ उतारने वाले को कांग्रेस ने किया अपनी पार्टी में शामिल

यान के पैनल पर पीएम मोदी की तस्वीर

चेन्नई के स्पेस किड्ज इंडिया (SKI) का उपग्रह इन अन्य 18 उपग्रहों में शामिल था. इस अंतरिक्ष यान के पैनल पर पीएम नरेंद्र मोदी तस्वीर बनाई गई है. इसे लेकर SKI ने कहा कि यह प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर की पहल और स्पेस में प्राइवेटाइजेशन के लिए आभार व्यक्त करने के लिए था. इतना ही नहीं SKI ने इन उपग्रहों के साथ एक एसडी कार्ड में भगवत् गीता भेजा है.

सफल रहा मिशन

मिशन पूरा होने के बाद इसरो प्रमुख के सिवान ने इसकी सफलता के बारे में बताया. उन्होंने कहा कि मुझे यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि पीएलएलवी सी-51 ने अमेजन-1 को आज अपनी सटीक कक्षा में सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया है. इस मिशन में ब्राजील के द्वारा डिजाइन और संचालित उपग्रह लॉन्च करने में भारत और इसरो को गर्व , सम्मानित और खुशी महसूस हो रहा है. इस सफलता के लिए सभी को मेरी तरफ से हार्दिक बधाई.

ब्राजील पहला उपग्रह

बता दें, अमेजोनिया-1 ब्राजील का पहला उपग्रह है, जिसे भारत ने प्रक्षेपित किया है. इसका वजन 637 किलोग्राम है. यह उपग्रह राष्ट्रीय अंतरिक्ष अवलोकन संस्थान ( INPI) का उपग्रह है. यह एक ऑप्टिकल पृथ्वी अवलोकन उपग्रह है. इसरो ने बताया कि अमेजोनिया-1 सैटेलाइट अमेजन क्षेत्र में वनों की कटाई निगरानी और ब्राजील के क्षेत्र में विविध कृषि के विश्लेषक के लिए आंकड़े प्रदान करेगा तथा मौजूदा इंफ्रास्ट्रक्चर को और मजबूत बनाएगा.

 

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles