Friday, October 15, 2021

आपातकाल में पड़ोसी देशों में जाकर दे सकेंगे मेडिकल सेवा, PM मोदी ने रखा स्पेशल वीजा का प्रस्ताव

आपातकाल की स्थिति में पड़ोसी देशों के डॉक्टर-नर्स को अब एक-दूसरे के देशों में जाकर सेवा देने में आसानी होगी। इसके लिए पीएम मोदी ने स्पेशल वीजा स्कीम बनाने का प्रस्ताव रखा है। कोरोना पर पड़ोसी देशों के वर्कशॉप एजेंडा को तय करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस स्कीम के जरिए डॉक्टर्स-नर्स वीजा की मदद से आपातकाल में सेवा दे सकेंगे।

- Advertisement -

इसके अलावा उन्होंने सभी देशों के नागर विमानन मंत्रालयों से एयर एंबुलेंस समझौते पर भी विचार करने की अपील है। पीएम मोदी ने कोरोना को खत्म करने के लिए आपसी सहयोग को काफी महत्वपूर्ण बताया।

दरअसल, पीएम मोदी ने पड़ोसी देशों के साथ गुरुवार को एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की। इस बैठक में कोविड-19 मैनेजमेंट की वर्कशॉप को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने स्पेशल वीजा स्कीम का प्रस्ताव सबके सामने रखा। इसके साथ पड़ोसी देशों के साथ कोरोना से लड़ने की तैयारी को लेकर चर्चा की।

महामारी से लड़ने के लिए रीजनल प्लेटफॉर्म बनाया जाए

पीएम मोदी ने कोविड-19, कोरोना वैक्सीन और जनसंख्या से जुड़े डाटा को लेकर रीजनल प्लेटफॉर्म बनाने की  बात कही। इस प्लेटफॉर्म के जरिए सभी देश अपना-अपना डाटा जमा करेंगे और फिर इसके प्रभाव को लेकर अध्ययन करेंगे।

भविष्य के लिए रहना होगा तैयार

इसके अलावा प्रधानमंत्री ने भविष्य में इस महामारी जैसी आपदाओं से निपटने के लिए तकनीक को बढ़ावा देने को कहा है। पीएम मोदी ने कहा महामारी से निपटने के लिए तकनीक का इस्तेमाल अहम है। उन्होंने कहा, आयुष्मान भारत और जन आरोग्य योजना जैसी सफल स्वास्थ्य नीति और योजना को रीजनल प्लेटफॉर्म पर शेयर किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- केजरीवाल का शिक्षा मॉडल: उत्तर पुस्तिका में कुछ भी लिख दें, परीक्षा में मिल जाएंगे नंबर

बैठक में पाकिस्तान भी शामिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, भारत में अन्य देशों की तुलना में कोरोना से हुई मौत का दर सबसे कम है। इस वर्कशॉप में भारत के 10 पड़ोसी देशों के अधिकारी मौजूद थे। वर्कशॉप में भारत के साथ पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश, भूटान, अफगानिस्तान, मालदीव, मॉरिशस, सेशेल्स और श्रीलंका शामिल थे। मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान समेत सभी 10 देशों ने पीएम मोदी के इस प्रस्ताव की सराहना की है। उन्होंने इन प्रस्तावों पर सभी के सहयोग के लिए एक चर्चा की मांग की है।

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles