Saturday, October 16, 2021

इतिहास में पहली बार: आजाद भारत में दी जाएगी महिला को फांसी, जुर्म सुनकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

भारत में 150 साल पहले महिला फांसीघर बनाया गया था। जिसमें आजादी के बाद अभी तक किसी महिला को फांसी नहीं दी गई है, पर अब आजाद भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा होने जा रहा है, जब किसी महिला को फांसी के तख्त पर लटकाया जाएगा।

- Advertisement -

दरअसल, मथुरा जेल में बंद अमरोहा की रहने वाली शबनम को फांसी देने की तैयारी चल रही है। अभी फांसी की तारीख तय नहीं की गई है। उसकी तरफ से राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी गई थी, जिसे खारिज कर दिया गया है। शबनम को मथुरा में स्थित एकलौते महिला फांसीघर में मौत की सजा दी जाएगी। फांसी देने से पहले निर्भया के आरोपियों को फांसी देने वाले मेरठ के पवन जल्लाद दो बार फांसीघर का निरीक्षण कर चुके हैं।

क्या था पूरा मामला

अमरोहा की रहने वाली शबनम ने अप्रैल 2008 में अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपने परिवार की कुल्हाड़ी से काटकर बड़ी बेहरमी से हत्या कर दी थी। अमरोही जिले का बावनखेड़ा गांव 15 अप्रैल को एक लड़की की चीख सुनकर लोग जमा हुए थे। गांव के लोग जब घर पहुंचे तो परिवार के सात लोगों का खून से लथपथ शव जमीन पर पड़ा मिला।

ऐसे में शबनम (25) चीख-चीखकर लोगों को बताती है कि घर में लुटेरों ने घुसकर लूटपाट की और उसके परिवार को मारकर चले गए। पुलिस को जब घटना के बारे में पता चला तो वह मौके पर पहुंची। पुलिस को शबनम की बात जरा-सी भी हजम नहीं हुई तो उन्होंने इस मामले जांच काफी गहराई से की। जांच करने पर पुलिस ने चौकाने वाला खुलासा किया कि अपने परिवार की हत्या शबनम ने ही की है।

यह भी पढ़ें- Toolkit Case: पुलिस का बड़ा खुलासा, गणतंत्र दिवस हिंसा से पहले 6 दिन तक टिकरी बॉर्डर पर था टूलकिट का आरोपी शांतनु मुलुक

परिजनों को रिश्ता नहीं था मंजूर

पुलिस के अनुसार शबनम ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर पूरी वारदात को अंजाम दिया था। शबनम पोस्टग्रेजुएट और पेशे से शिक्षक थी। उसे पांचवी क्लास के सलीम से प्यार हो गया था, लेकिन दोनों के रिश्ते से शबनम के परिजन नाखुश थे। इसी बीच शबनम प्रेगनेंट हो गई।

शबनम और सलिम ने मिलकर बनाया हत्या का प्लान

फिर इसके बाद दोनों ने मिलकर परिवार को खत्म करने का प्लान बनाया। 15 अप्रैल, 2008 की रात को शबनम ने खाने में कुछ मिला दिया। खाना खाने के बाद परिवार के लोग बेहोश हो गए तो उसने एक-एक करके कुल्हाड़ी से सबको मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने मामले की जांच के दौरान शबनम की कॉल डिटेल निकाली तो उसके सलीम से बात होने की पुष्टि हुई। शबनम से जब कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने सब उगल दिया।

बिहार से आएगी फांसी की रस्सी-

शबनम की फांसी की तारीख अभी तय नहीं हुई है, लेकिन तैयारियां शुरु हो गई हैं। डेथ वारंट जारी होते ही, शबनम को फांसी पर लटका दिया जाएगा। जेल के अधीक्षक के मुताबिक पवन जल्लाद ने दो बार फांसीघर का निरीक्षण किया है। उसे तख्ता-लीवर में कमी दिखी है, जिसे ठीक करवाया जाएगा। बिहार के बक्सर से फांसी के लिए रस्सी मंगाई जा रही है। अगर आखिरी समय में कोई अड़चन नहीं आई तो शबनम भारत की महिला होगी जिसे आजादी के फांसी दी जाएगी।

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles