Saturday, October 16, 2021

मस्जिद से ऐलान कर जुटाई भीड़, फिर कर दी SHO अश्विन की हत्या, बेटी ने की CBI जांच की मांग

पटना। बिहार के किशनगंज जिला के नगर थाना प्रभारी अश्विनी कुमार की शनिवार 10 अप्रैल को पश्चिम बंगाल में हत्या कर दी गई. इस हत्याकांड को उनकी बेटी ने षड़यंत्र बताया और CBI जांच की मांग की. साथ ही उनकी पत्नी ने सर्किल इंस्पेक्टर को गिरफ्तार करने की मांग की है.

- Advertisement -

इस मामले के बारे में किशनगंज के SDPO जावेद अंसारी ने बड़ा खुलासा किया. उन्होंने बताया कि अश्विनी कुमार की हत्या करने वाली भीड़ को मस्जिद से अनाउंस करके जुटाया गया था. उनके मुताबिक दो लोगों ने लाउडस्पीकर पर हल्ला किया. फिर इसके बाद देखते ही देखते भीड़ जमा होने लगी. जावेद अंसारी ने बताया कि मस्जिद से पहले अनाउंस किया गया कि चोर आया, डाकू आया. जिसे सुनकर देखते ही देखते भीड़ जुटने लगी. फिर इसके बाद लोगों की भीड़ ने थानाअध्यक्ष की पीट-पीटकर हत्या कर दी.

बेटे का शव देख मां तोड़ा दम

रविवार (11 अप्रैल 2021) को अश्वीन कुमार की मां (75 वर्ष) ने बेटे का शव देखते ही दम तोड़ दिया. इसके बाद पुर्णिया जिले में उनके पैतृक गांव में दोनों का दाह-संस्कार किया गया. इस दौरान लोगों ने शहीद अश्विनी कुमार अमर रहे के नारे लगाए. जिससे पूरा इलाका नारों से गूंज उठा.

बेटी ने उठाए सवाल

अश्विनी कुमार की बेटी नैंसी ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि उनके पिता की निर्मम हत्या एक साजिश है. उन्हें ऑपरेशन के समय अपने साथी अधिकारियों की भूमिका पर संदेह था. उसने सवाल पूछते हुए कहा कि जब उनके पिता को मार डाला गया तो बाकी लोग सुरक्षित कैसे वापस आ गए. उन्हें तो एक भी खरोच नहीं आई.

CBI जांच की मांग की

नैंसी ने रोते हुए आगे कहा कि यह एक साजिश है. इस मामले में मैं CBI जांच की मांग करती हूं. उनके पास बंदूकें थीं लेकिन इसके बावजूद उन लोगों ने मेरे पिता का साथ छोड़ दिया. सिर्फ सर्किल इंस्पेक्टर मनीष कुमार को ही नहीं बल्कि उन सभी लोगों को दंडित किया जाए जो लोग वहां से भाग गए थे. मेरे पिता की मौत की खबर सुनकर दादी सदमे में आ गईं और उनकी मौत हो गई.

बता दें, पुलिस प्रशासन ने मनीष कुमार को निलंबित कर दिया है. सभी पुलिसकर्मियों ने एक दिन का वेतन ( करीब 50 लाख रुपए) और आईजी ने 10 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है. वहीं, मुख्यमंत्री ने पूरे परिवार को हर संभव मदद करने का आश्वन दिया है. साथ ही परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का ऐलान किया है.

पूरा मामला क्या है?

यह मामला पश्चिम बंगाल के गोलपोखर पुलिस स्टेशन के पांतापारा गांव का है. किशनगंज के थानाअध्यक्ष अश्विनी कुमार अपने दलबल के साथ बाइक चोर को पकड़ने के लिए पांतापारा में छापा मारने गए थे,. लेकिन गांव के लोगों ने उनपर हमला बोल दिया. SHO अश्विनी कुमार को लोगों ने घेर लिया और पीट-पीटकर उनकी हत्या कर दी. आरोप है कि पश्चिम बंगाल पुलिस को इस मामले की सूचना थी लेकिन उन्होंने बिहार पुलिस की कोई मदद नहीं की.

यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट में कुरान के खिलाफ डाली याचिका खारिज, वसीम रिजवी पर लगाया 50 हजार का जुर्माना

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles