Wednesday, August 4, 2021

अमेरिका ने किया पाकिस्तान का पर्दाफाश, कहा- आतंकवादियों के लिए सबसे सुरक्षित अड्डा

भारत हमेशा से कहता आ रहा है कि पाकिस्तान आतंकवाद को शरण देता है. इसे लेकर संयुक्त राष्ट्र संघ के सामने कई सबूत रखे जा चुके हैं. अब अमेरिका ने भी पाकिस्तान का पर्दाफाश कर दिया है. अमेरिकी सांसद ने कहा कि अफगानिस्तान में तालिबान की जड़ें पाकिस्तान में मौजूद हैं. जिसकी सुरक्षा पाक जमाने से कर रहा है. बता दें, हाल ही में बाइडेन प्रशासन ने 11 सितंबर तक युद्धग्रस्त देशों से अपने सैनिकों को वापस बुलाने का ऐलान किया है.

- Advertisement -

सीनेट आर्म्ड सर्विस कमेटी के अध्यक्ष जैक रीड ने गुरुवार को कहा कि तालिबान की सफलता का सबसे बड़ा कारण उसे पाकिस्तान में मिल रही सुरक्षित पनाहगाह है. जिसे खत्म करने में अमेरिका विफल रहा है. रीड ने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि पाकिस्तान ने तालिबान को सुरक्षित पनाह दी है.

वहां की सरकार इंटर सर्विसेस इंटेलिजेंस (ISI) के जरिए तालिबान को समर्थन दे रही है. जो तालिबान के युद्ध को जारी रखने के लिए आवश्यक है. इस युद्ध में सुरक्षित पनाहगाहों को नष्ट न कर पाना अमेरिका सबसे बड़ी विफलता रही है जो वशिंगटन की सबसे बड़ी गलती रही है.

उन्होंने कहा, अफगान स्टडी समूह के अनुसार आतंकवाद के लिए ये सुरक्षित पनाहगाह बेहद जरूरी है. पाकिस्तान की ISI ने अवसरों का फायदा उठाने के लिए अमेरिका के साथ सहयोग किया और तालिबान की हर संभव मदद की.

जैक रीड ने कहा कि 2018 में एक स्टडी के मुताबिक पाकिस्तान ने प्रत्यक्ष सैन्य और खुफिया सहयोग प्रदान किया जिसका परिणाम अमेरिकी सैनिक, अफगान सुरक्षा बल के जवान और आम जनता मारी गई और अफगानिस्तान में तबाही हुई.

उन्होंने कहा, तालिबान को पाकिस्तान की तरफ से मिल रहा यह समर्थन अमेरिका के सहयोग के बिल्कुल विपरीत है. उन्होंने अपने हवाई इलाके और अन्य इन्फ्रास्ट्रक्चर को इस्तेमाल करने की मंजूरी दी जिसके लिए अमेरिका ने आर्थिक मदद की.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने दोनों ओर से फायदा उठाया है. लेकिन इन सब के साथ पाकिस्तान खुद कमजोर हो रहा है और परमाणु हथियार संपन्न होने के कारण यह खतरनाक है. उन्होंने बताया कि सबसे बड़ी बात यह है कि पाकिस्तान का अपने पड़ोसी देश भारत के साथ लंबे समय से संघर्ष चल रहा है. भारत भी परमाणु संपन्न देश है.


यह भी पढ़ें- पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने की पर्दा प्रथा की वकालत तो लोगों शेयर कर दिया उनका यह वीडियो

जेक रीड ने कहा कि अफगानिस्तान से अमेरिका और उसके गठबंधन सहयोगियों के सैनिकों को वापस बुलाने का जो फैसला लिया है, इसके पीछे की एक और वजह है कि वे अफगान सरकार का गठन नहीं करा पाए जो वहां की जनता का भरोसा जीत पाएं.

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

135FansLike

Latest Articles